Good Motto Blog

Raising Values Through Words

4 गुना ज्यादा वजन उठा कर मीराबाई चानू ने गोल्ड मेडल अपने नाम किया



टोक्यो ओलंपिक 2020 में भारत को सिल्वर मेडल लाकर देने वाली एथलीट मीराबाई चानू ने शनिवार को महिला वेटलिफ्टिंग में 49 किलो भार उठाकर एक कमाल का रिकॉर्ड बना दिया। स्‍नेच और क्‍लीन एंड जर्क राउंड के अंत में एथलीट मीराबाई चानू ने बड़े ही आसानी से वेटलिफ्टिंग उठा के गोल्ड अपने नाम कर लिया। दोनों राउंड को मिलाकर मीराबाई चानू ने कुल मिलाकर 201 किलो उठाया था। सिल्वर मेडल प्राप्त करने वाली मीराबाई चानू के निकटतम प्रतिद्वंद्वी ने 172 किलोग्राम उठाया था। ऐसा बताया जा रहा है कि वह दूसरे नंबर के खिलाड़ी से काफी आगे थी।


29 किलोग्राम से आगे रहते हुए मीराबाई चानू ने गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया। मीराबाई चानू ने स्नैच राउंड मे अपने दूसरे राउंड में 88 किलो वजन उठाकर

12 किलो की लीड बना ली थी। पहले प्रयास में इन्होंने 84 किलो उठाया था। लेकिन स्नैच राउंड के तीसरे भाग में 90 किलो वजन उठाने से चूक गयी थी। इसके बाद मीराबाई चानू ने क्‍लीन एंड जर्क राउंड में पहले प्रयास में 109 किलो वजन उठा कर भारत को गोल्ड जितवा दिया था। जीत हासिल करने के बाद भी मीराबाई चानू रुकने का नाम नहीं ले रही थीं।


इसके बाद उन्होंने दूसरे प्रयास में 113 किलो वजन उठाया था। अगर वह इस प्रयास को नहीं भी करती

तो भी गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुकी थी। मीराबाई चानू गोल्ड मेडल हासिल करने के बाद भी पहले और दूसरे प्रयास के बाद भी नहीं रुकी थी। इस बार उन्होंने 115 किलो वजन उठाने की कोशिश की थी लेकिन कोशिश में नाकामयाब रही। स्‍नैच राउंड और क्‍लीन एंड जर्क राउंड  को मिलाकर मीराबाई चानू ने 201 किलो वजन उठाकर गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया। 


एथलीट मीराबाई चानू के बारे में बात करें तो  बचपन से ही यह काफी ज्यादा मेहनती थी और आए दिन वेटलिफ्टिंग उठाने का प्रयास करती रहती थी। लेकिन किसी को इस बात का अंदाजा नहीं था की एथलीट मीराबाई चानू भविष्य में जाकर इतना कुछ हासिल कर सकती हैं। बचपन में गांव से लकड़ी उठाने का प्रयास करने के बाद आज मीराबाई चानू देश को गोल्ड मेडल ला कर दी है। मीराबाई चानू को काफी अच्छी वेटलिफ्टिंग उठाने की ट्रेनिंग दी जाती है उसके साथ साथ कहीं ना कहीं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने मीराबाई चानू को मोटिवेट करने की कोशिश की है। अगर आप इस खबर के बारे में सर्च करना चाहते हैं तो होम पेज पर जाकर विजिट कर सकते हैं।


मीराबाई चानू आज की तारीख में एक ऐसी एथलीट बन चुकी है जो कि देश के हर एक महिला के लिए आज की तारीख में एक अच्छा उदाहरण है। मीराबाई चानू की तरह ही देश की हर एक लड़की को घर से बाहर निकल कर कुछ इस प्रकार का प्रयास करना चाहिए। आज हमारे देश में लड़कियां काफी आगे निकल चुकी है और हर एक क्षेत्र में झंडा गाड़ रही है।

पहले सिल्वर मेडल और फिर गोल्ड मेडल जीतने के बाद मीराबाई चानू ने इतिहास रच दिया है।


अब देखना यह है कि आखिरकार क्या मीराबाई चानू एक बड़ी जीत हासिल करने के बाद देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने जाती है कि नहीं। अगर आपको हमारी जानकारी पसंद आई है तो ज्यादा से ज्यादा शेयर करने का प्रयास करें। हमारी जानकारी पढ़ने के लिए आप सभी का धन्यवाद। 

Updated: August 1, 2022 — 2:19 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Good Motto Blog © 2022 Frontier Theme