Good Motto Blog

Raising Values Through Words

2016 से 2022 के सफर में नीरज चोपड़ा ने भाला फैक सैकड़ो पदक अपने नाम किये


                                                Image Credit:YashSD/Shutterstock

 नीरज चोपड़ा का नाम तो आप सभी जानते है और इन्होने जिस भी चैंपियनशिप में भी भाला फैका है वहा पर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया है। लेकिन आज हम आपको नीरज चोपड़ा के रिकॉर्ड के बारे में जानकारी देने वाले है। neeraj chopra achievements in hindi के बारे में आज हर कोई सर्च करता है। 2016 में इन्होने पहली बार जूनियर वर्ल्ड चैंपियनशिप में इन्होने 86.48 मीटर भाला फैक कर अपनी सफलता की शुरुवात की थी। इसके बाद 2018 से लेकर 2020 तक कॉमनवैल्थ गेम से लेकर एशियन चैम्पियनशिप से लेकर टोक्यो ओलंपिक में रिकॉर्ड तोड़ने के साथ साथ अब 2022 में अब पदक हासिल करने वाले पहले पुरुष एथलीट में अपना नाम दर्ज करवा लिया है।  


2022 के वर्ल्ड एथेलेटिक्स चैम्पियशिप के बारे में बात करे तो यहाँ पर नीरज चोपड़ा ने अपने चौथे राउंड में 88.13 मीटर दूर तक भाला फैक कर रजत पदक अपने नाम कर लिया है। नीरज चोपड़ा के चाहने वाले और भारत के लिए ये गर्व की बात है की 19 साल बाद विश्व एथेलेटिक चैम्पियनशिप में कोई रजत पदक जीता गया है। नीरज चोपड़ा के अलावा 2003 में अंजू बॉबी जॉर्ज ने रजत पदक जीता था।  लेकिन अब 19 साल बाद नीरज चोपड़ा ने अमरीका के यूजीन में एक बार फिर से 19 साल पुराना इतहास एक बार फिर से रच दिया है। इसके पहले भी 2016 में नीरज चोपड़ा जूनियर वर्ल्ड चैम्पियनशिप के रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवा चुके है। 


20 साल से भी कम उम्र में नीरज चोपड़ा 86.48 मीटर दूर तक भाला फैंककर सुर्खियों का हिस्सा बन गए थे। नीरज चोपड़ा ने स्वर्ण पदक जीतने के बाद जीवन में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा है। अन्य रिकॉर्ड के बारे में बात करे तो ऑस्ट्रेलिया में नीरज चोपड़ा ने गोल्ड कोस्ट में 21वी राष्ट्रीयमंडल खेल में जेवलिन थ्रो फैक कर पदक अपने नाम किया था। राष्ट्रीयमंडल खेल में भाला फैंककर स्वर्ण पदक हासिल करने वाले नीरज चोपड़ा पहले खिलाडी बन चुके है।  बताया जा रहा है की नीरज चोपड़ा ने ग्रेनेडा के एंडरसन पीटर्स को पीछे छोड़कर स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। 


2018 की बात करे तो नीरज चोपड़ा ने एशियन गेम में महज 20 साल की उम्र में भारत को जेवलिन में पहला स्वर्ण पदक दिलवाया था। इससे पहले बात करे तो गुजरेत सिंह 1982 में कांस्य पदक जीता था।  नीरज चोपड़ा इससे पहले भी एशियन गेम ओपनिंग सेरिमनी में भारतीय दल के ध्वजवाहक भी रह चुके है।  टोकियो ओलंपिक में मिराज चोपड़ा ने देश को एथलीट में पहला स्वर्ण पदक दिलवाया था।  इसी के साथ में भारत को 121 साल पुराना इंतजार अब खत्म हो चुका है।   


नीरज चोपड़ा ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा की हर खिलाडी का एक अपना दिन आता है। इससे पहले एंडरसन पीटर्स का दिन था और अगले साल 2024 में एक बार फिर से वर्ष वर्ल्ड चैंपियनशिप और ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने का पूरा प्रयास करेंगे। आज की जानकारी में आपको प्रमुख रूप से neeraj chopra achievements के बारे में आप सभी को बताया गया है।  नीरज चोपड़ा एक मात्र ऐसे उभरते हुए खिलाडी है जिनके बारे में आज हर कोई जानना चाहता है और उनकी तरह बनना चाहते है। पहली बार जब नीरज चोपड़ा ने खेल के मैदान में कदम रखा था तब किसी को उम्मीद भी नहीं थी की नीरज चोपड़ा इतना बड़ा कारनामा करके दिखा सकते है।

Updated: July 26, 2022 — 11:43 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Good Motto Blog © 2022 Frontier Theme